HISTORY

भारत का स्वतंत्रता संघर्ष महत्वपूर्ण तथ्य की पूरी जानकारी हिन्दी मे

भारत का स्वतंत्रता संघर्ष महत्वपूर्ण तथ्य की पूरी जानकारी हिन्दी मे
Written by Naukrihelp

Hello Friend– आज मै आप लोगो के लिए भारत का स्वतंत्रता संघर्ष महत्वपूर्ण तथ्य के बारे मे स्पस्ट ढगं से बतायगे इससे जुडे जितने भी रोचक जानकारी है वो लोगो के लिए लेकर आये जो की परीक्षाओ मे चाहे वो जिस प्रकार कि भी परीक्षा हो इसमे जुडे प्रश्न जरुर पुछा जाता है  तो हमारी इस लेख को ध्यान पूर्वक पढे।

भारत का स्वतंत्रता संघर्ष महत्वपूर्ण तथ्य

  • पहला अंग्रेज विरोध संघर्ष संन्यासियो के द्वारा शुरु किया गया।
  • सन्यासी विद्रोह का उल्लेख बंकिमचन्द्र चटर्जी के उपन्यास आन्नदमठ मे किया गया है।
  • 1857 ई0 मे दादा भाई नौरोजी ने इगलैड मे भारतीय सुधार समिति कि स्थापनी की है।
  • 1857 इ0 के बाद ब्रिटिश सरकार का रुख काँग्रेस के प्रति कठोर होता चला गया।
  • डफरिन ने कहा क्राँग्रेस केवल सुक्ष्मदर्शी अल्पसंख्या का रही है।
  • कर्जन ने कहा क्राँग्रेस अपने की ओर लडखडाती हुई जा रही है।
  • अरविन्द घोष के अनुसार क्राँग्रेस क्षवरोग े मरने ही वाली है।
  • बंकिम चन्द्र चटर्जी ने कहा काँग्रेस के लोग पदो के भूखे राजनीतिज्ञ है।
  • नौरोजी द्त्त एवं बाचा ने धन निकास के सिध्दान्त का प्रतिपादन किया।
  • ब्रिटिश हाउस आँफ काँमन्स का चुनाव लडने वाले सर्वप्रथम भारतीय दादाभाई नौरोजी थे इन्होने लिरल पार्टी के उम्मीदार के रुप मे फरवरी से 1892ई0 मे चुनाव जीता था।
  • लार्ड कर्जन ने 20 जुलाई 1905 ई0 को बंगाल विधानसभा के निर्णय की घोषणा की।
  • बंगाल विभाजन के विरोध मे 7 अगस्त 905 ई0 को कलकत्ता के टाऊन हाँल मे स्वदेशी आन्दोलन की घोषणा की गयी बंगाल विभाजन 16 अक्टुबर 1905 ई0 को प्रभावी हुआ इस दिन पूरे बंगाल मे शोक दिवस मनाया गया स्वदेशी आन्दोलन मे वन्दे मातरम् विभाजन नही चाहिए एवं बंगाल एक है आदि नारे लगाये गये।
  • जवाहर लाला नेहरु के नेतृत्व मे अन्तरिम सरकार का गठन 2 सितम्बर 1946 ई0 को हुआ 26 अक्टूबर 196 ई0 को मुस्लिम लीग अंतरिम सरकार मे सम्मिलित हुई
  • 27 मार्च 1947 ई0 को मुस्लिम लीग ने पाकिस्तान दिवस के रुप मे मनाया ।
  • स्वतंत्रता प्राप्ति के समय काँग्रेस के अध्यक्ष जे0 बी 0 कृपलानी एवं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री क्लीमेन्ट एटली लेबर पार्टी थे।
  • भगत सिंह के विरुध्द मुखबिरी करने के कारण फणीन्द्र घोष की हत्या बैकुण्ठ शुक्ल ने की थी।
  • महात्मा गाँधी द्वारा स्थापित हरिजन सेवक संघ के संस्धापक अध्यक्ष घनश्याम दास बिडला थे।
  • गाँधी ने काँग्रेस की सदस्यता से दो बार त्यागपत्र दिया 1925 ई0 मे और 1930 ई0 मे ।
  • बाँटो और छोडो का नारा लीग ने दिसम्बर 1943 ई0 के कराची अधिवेशन मे दिया।
  • काँग्रेस का प्रथम ब्रिटिश अध्यक्ष जाँर्ज थूल थे।
  • मै देश के बालु से ही काँग्रेस से भी बडा आन्दोलन खडा कर दूगाँ महात्मा गाँधी ने कहा।
  • डंडा फोज का गठन पंजाब मे चमनदीव ने किया ।
  • राष्ट्रवादी अहरार आंदोलन मजहर उल हक ने प्रांरभ किया।
  • निरंकारी आंदोलन की शुरुवात दयाल दास ने की।
  • ब्रहासमाज का प्रतिज्ञा पज्ञ शिव नारायण अग्निहोत्री थे।

स्वातंत्रता संग्राम के दौरान महत्वपूर्ण स्थान

चटगांव

बांग्लादेश में स्थित यह जगह चटगांव शस्त्रागार छापे के लिये मशहूर है । छापे का नेतृत्व क्रांतिकारी सूर्य सेन ने किया था । सूर्य सेन ने युवा क्रांतिकारियों के एक समूह का आयोजन किया और इस समूह ने चटगांव में पुलिस शस्त्रागार की घेराबंदी की योजना बनाई । 18 अप्रैल 1930 को सूर्य सेन ने अपने दल के साथ पुलिस के शस्त्रागार पर कब्जा कर लिया, टेलीग्राफ लाइनें काट दी और राष्ट्रीय ध्वज फहराया ।

चौरी चौरा

उत्तर प्रदेश में गोरखपुर के पास स्थित जगह जहाँ पर एक हिंसात्मक भीड़ ने एक पुलिस स्टेशन में आग लगा दी जिससे चौकी के अंदर फँसे 23 लोगों की मृत्यु हो गई । 1920 मे गांधी जी ने असहयोग आंदोलन आह्वान किया था । गांधीजी को इस घटना से गहरा आघात पहुँचा और उन्होने इस आंदोलन के समाप्ती की घोषना कर दी । यह घटना पर 4 फ़रवरी 1922 की है ।

About the author

Naukrihelp

Leave a Comment